पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

मंगलवार, 15 सितंबर 2009

अमर प्रेम -------------भाग ३

गतांक से आगे ...............................

वक्त ने एक बार फिर करवट बदली। अर्चना के पास असंख्य ख़त आने लगे । लोग उसकी कविताओं की सराहना करने लगे। उन्ही में एक दिन उसे एक ख़त मिला जिसमें लिखा था :---------------

अर्चना जी ,

आप कैसे इतना गहन लिख लेती हैं ? आपकी हर रचना में ज़िन्दगी की सच्चाइयाँ छुपी होती हैं । आपके लेखन को नमन है। अर्चना जी आपकी हर कविता के साथ मेरी बनाई कोई न कोई फोटो छपती है या यूँ कहो मेरी बनाई हर फोटो के जज़्बात ,उसकी गहनता को आप कैसे अपनी कविताओं में ढाल देती हैं।
जो मैं अपनी चित्रकला के माध्यम से कहना चाहता हूँ उसके भाव सिर्फ़ और सिर्फ़ आप ही कैसे समझ लेती हैं । कौन सा रिश्ता है आपकी कविताओं और मेरी चित्रकला के बीच।

सादर आभार
अजय


इस ख़त का जवाब अर्चना ने कुछ यूँ दिया :-----------------

अजय जी ,
सादर धन्यवाद ................आपको मेरी लिखी कवितायेँ पसंद आती हैं। आपकी बनाई कलाकृति हर कोमल ह्रदय इंसान को ख़ुद -ब-ख़ुद कोई न कोई कविता गढ़ने को विवश कर दे .............इतनी जीवन्तता होती है आपकी कलाकृति में।
फिर भी इतना कहना चाहूंगी शायद हम दोनों की राशि एक है------------हो सकता है इसलिए समझ सकती हूँ आपकी गहन भावनाएं जो हर कृति में छुपी होती हैं।

सादर आभार
अर्चना

उस वक्त अर्चना ने न जाने किन भावनाओं के वशीभूत होकर या यूँ कहो दिल्लगी करने के लिए इस प्रकार की बातें कह दीं । उस वक्त अर्चना ने सोचा भी न था कि हल्के से कही बात अजय के जीवन को एक नया मोड़ दे देगी। बस उसके बाद तो अर्चना और अजय के खतों का सिलसिला चल ही पड़ा । दोनों के बीच एक अनोखा दोस्ती का रिश्ता कायम हो गया। अजय जब तक अर्चना कि कविता पढ़ न लेता या अर्चना जब तक अजय की चित्रकला पर कविता न गढ़ लेती दोनों में से एक दूसरे को चैन ही न पड़ता। अजय के लिए तो अर्चना जैसे भोर का नया उजाला बन कर आई थी। धीरे धीरे रिश्ता आकार लेने लगा। सबसे अहम बात इस रिश्ते की कि अब तक दोनों कभी एक दूसरे से मिले भी न थे .....................एक दूजे को देखा भी न था। कितना सुखद अहसास था इस रिश्ते का।शायद कुछ इस तरह :---------------
न तुमने मुझे देखा
न कभी हम मिले
फिर भी न जाने कैसे
दिल मिल गए
सिर्फ़ जज़्बात हमने
गढे थे पन्नों पर
और वो ही हमारी
दिल की आवाज़ बन गए
बिना देखे भी
बिना इज़हार किए भी
शायद प्यार होता है
प्यार का शायद
ये भी इक मुकाम होता है
मोहब्बत ऐसे भी की जाती है
या शायद ये ही
मोहब्बत होती है
कभी मीरा सी
कभी राधा सी
मोहब्बत हर
तरह से होती है
क्रमशः .............................................

16 टिप्‍पणियां:

अनिल कान्त : ने कहा…

waakyi ye shabd dil tak jaate jaan padte hain

Nirmla Kapila ने कहा…

ीअच्छी चल रही है कहानी बधाई।

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

ओह बढ़िया कहानी चल रही है . "जज्बात मिले पर उनसे रूबरू मुलाकात हो न सकी" . बहुत उम्दा भावः.

अशोक कुमार पाण्डेय ने कहा…

Shubhakaamnaayen

दर्पण साह "दर्शन" ने कहा…

kahani acche ban padi hai...

accha hai ki shuru se hi jud gaya bhavishya main 'peeche chooth jane' ke ehsaas na hoga....

A desk of An Artisan ने कहा…

बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति ,बधाई हो आपको
ब्लॉग जगत में आपका स्वागत है,

A desk of An Artisan ने कहा…

बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति ,बधाई हो आपको
ब्लॉग जगत में आपका स्वागत है,

विपिन बिहारी गोयल ने कहा…

कहानी रोचक है उत्सुकता भी जगा रही है

नारदमुनि ने कहा…

aanand kishton me bhee aata hai.narayan narayan

संगीता पुरी ने कहा…

स्‍वागत है आपका ..अच्‍छी चल रही है आपकी कहानी .. नियमित बने रहें .. शुभकामनाएं !!

VisH ने कहा…

सुन्दर बहुत सुन्दर ....yadon ko shabdo main kya khoob piroya aapne likhte rahiye.....waise jyada nahi pada apko par jitna pada ...achhha laga !! mere blogs par bhi swagat hai ....

Jai Ho Mangalmay Ho

राकेश कुमार ने कहा…

अगला अन्क पढने की उत्सुकता है...

Babli ने कहा…

बहुत सुंदर कहानी लिखा है आपने! पढ़कर बहुत अच्छा लगा!

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत ही सुंदर, bahut Barhia...aapka swagat hai...


http://sanjaybhaskar.blogspot.com

पवन *चंदन* ने कहा…

एक प्रयास
में
एहसा ही एहसास
का वास
अनायास
नहीं है
ये आपका
सद्प्रयास
है

क्रिएटिव मंच ने कहा…

आपका स्वागत है
आपको पढ़कर अच्छा लगा
शुभकामनाएं


*********************************
प्रत्येक बुधवार सुबह 9.00 बजे बनिए
चैम्पियन C.M. Quiz में |
प्रत्येक रविवार सुबह 9.00 बजे शामिल
होईये ठहाका एक्सप्रेस में |
प्रत्येक शुक्रवार सुबह 9.00 बजे पढिये
साहित्यिक उत्कृष्ट रचनाएं
*********************************
क्रियेटिव मंच