पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

गुरुवार, 17 जून 2010

दिव्य प्रेम

प्रेम प्रतिकार 
नहीं मांगता 
तुझसे तेरे
होने का हिसाब 
नहीं मांगता
प्रेम तो 
प्रेमी का
दीदार भी 
नहीं मांगता
जो रूह
बन गया हो 
जो साँसों में 
समा गया हो
जो जिस्म के 
रोएँ- रोएँ में
बस गया हो
फिर दीदार 
किसका करे 
और कौन करे
 जब दो हों
तो दीदार हो
जब दो हों तो
प्रतिकार  हो  
जहाँ एकाकार 
हो गया हो
प्रेम और प्रेमी का
वहाँ 
कोई बँधन नहीं
कोई चाहत नहीं 
वहाँ 
पूर्णता में लिप्त 
आनंद की 
स्वरलहरियाँ
गुंजारित होती हैं
रोम- रोम 
उल्लसित
पुलकित
प्रफुल्लित
कुसुम सा
महकता है
शरीर नगण्य
हो जहाँ
बस दिव्य प्रेम पनपता है वहाँ

26 टिप्‍पणियां:

rakesh kumar ने कहा…

Prem kee sampuuraNataa ko chitrit karaatee aapakee kavitaa dil ko beetar tak chhuu gayee.

sachmuch vah prem prem hee nahee jo pratidaan athvaa deedaar kee apekshaa rakhataa ho, vaasvik prem to kisee pushp par sharad ritu me paDee os kee ek bund kee tarah hoti hai jis par paDane vaalee bhor kee pratahm kiran usame ek motee see divyataa kaa aabhaas karaa detee hai.

vaastavik prem kee parikalpanaa ko aap sadaiv apanee lekhanee se naye aayaam detee rahee hai, ek bar punah ise sundar dhang se chitri karane ke liye aapakaa koTisha: shukriyaa.

माधव ने कहा…

बहुत अच्छा

श्यामल सुमन ने कहा…

नैसर्गिक उस प्रेम का चित्र यहाँ साकार।
सुमन को सचमुच आ गया इस रचना पर प्यार।।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com

Arvind Mishra ने कहा…

रूहानी प्रेम की सुन्दर कविता

kshama ने कहा…

Kitna sundar hai,divy prem ka yah bayaan!

दिलीप ने कहा…

prem ki divyta dikhane ke liye shukriya...bahut sundar rachna

M VERMA ने कहा…

जो रूह
बन गया हो
जो साँसों में
समा गया हो
जो जिस्म के
रोएँ- रोएँ में
बस गया हो
फिर दीदार
किसका करे
वाह ! रूहानी प्रेम का सुन्दर एहसास
बहुत सुन्दर

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

bahut sundar rachna vandana ji!

निर्मला कपिला ने कहा…

दिवय प्रेम की सुन्दर व्याख्या बधाई

महफूज़ अली ने कहा…

बहुत सुंदर....कितना सुंदर लिखा है....

ajit gupta ने कहा…

वाह शिव-पार्वती का मिलन? बढिया।

दीपक 'मशाल' ने कहा…

fir se khoob likha..

वाणी गीत ने कहा…

शरीर नगण्य हो जहाँ ...दिव्या प्रेम बसता है वहां ...
बिलकुल ...देह पर जो अटके वहां सिर्फ वासना है ....
प्रेम कुछ भी नहीं मांगता ...दीदार भी नहीं ...
मेरे भावनाओ को ही शब्द दे दिए हैं आपने
आभार ...!!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आध्यात्म की ओर ले जाता ये दिव्य प्रेम....बहुत खूबसूरत रचना

Udan Tashtari ने कहा…

सुन्दर रचना!

नरेन्द्र व्यास ने कहा…

प्रेम के स्वरुप की अलौकिक और स्वाभिविक अभिव्यक्ति को बहुत ही सुन्दर पंक्तियों में पिरो कर सुखद अनुभूति करवाई आपने ! बहुत बहुत आभार आदरणीया वन्दना जी !

सुलभ § Sulabh ने कहा…

दिव्य प्रेम के स्वरुप को इस रचना में आपने साकार किया है.

vedvyathit ने कहा…

"prem gali ati sankri ta me do n samaayen "
prem ttv soodho bahuri kathin khadg ki dhar
main tha tb hri nhi jb hri hain main nahi
prem ttv anirvchniy hai
badhai
dr. ved vyathit

sheetal ने कहा…

prem rang main dubi abhivyakti.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

मंगलवार 22- 06- 2010 को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है


http://charchamanch.blogspot.com/

बेचैन आत्मा ने कहा…

..शरीर नगण्य
हो जहाँ
बस दिव्य प्रेम पनपता है वहाँ.
..सुंदर कविता.

डा. अरुणा कपूर. ने कहा…

दिव्य प्रेम की परिभाषा आपने सुंदर शब्दो में की है!

सर्प संसार ने कहा…

सच्चा प्रेम।
---------
क्या आप बता सकते हैं कि इंसान और साँप में कौन ज़्यादा ज़हरीला होता है?
अगर हाँ, तो फिर चले आइए रहस्य और रोमाँच से भरी एक नवीन दुनिया में आपका स्वागत है।

sanu shukla ने कहा…

प्रेम की दिव्यता को प्रकट करती हुई रचना...!!

अखिलेश शुक्ल ने कहा…

ari wah, prem per itna kuch. badhai

aarkay ने कहा…

aise prem ko toh "Platonic love hi kahenge" . Vaise shayad prem ki parakashtha bhi yahi hai...